पंजाब में सिंधु डॉल्फिन को जल जीव का दर्जा,

sindhu dolphin

पंजाब सरकार द्वारा व्यास नदी (Vyas river) में पाई जाने वाली लुप्तप्राय सिंधु डॉल्फिन को जल जीव का दर्जा देने की अनुमति प्रदान की है। सिंधु डॉल्फिन (Indus Dolphin) एक दुर्लभ प्रजाति की मछली है, जो व्यास नदी की पर्यावरण प्रणाली के संरक्षण के लिए प्रमुख प्रजाति होगी।

व्यास नदी में पानी के अनियमित प्रवाह को गंभीरता से लेते हुए मुख्यमंत्री द्वारा जल संसाधन विभाग को आदेश दिया कि वन्यजीवों पर खतरे को कम करने और जल धाराओं की निरंतरता सुनिश्चित करने के लिए पांच से छह हजार क्यूसेक पानी का न्यूनतम प्रवाह सुनिश्चित किया जाए।

व्यास नदी बनेगी हेरिटेज: 

ऐतिहासिक, सांस्कृतिक, सामाजिक और धार्मिक महत्व को देखते हुए व्यास नदी को | हेरिटेज नदी घोषित करने की प्रक्रिया तुरंत शुरू की जाएगी। इसके लिए शिवालिक और उसके आसपास ईको-टूरिज्म (Eco Tourism) को विकसित करने तथा  निजी खिलाड़ियों के साथ समझौता कर कर्नाटक मॉडल के आधार पर जंगल लॉज विकसित किये जाएँगे। इसके लिए  प्रधान मुख्य वन्यजीव वार्डन, निदेशक पर्यटन और एमडी पंजाब राज्य वन निगम की एक समिति का गठन किया।

इसके अतिरिक्त वाइल्ड लाइफ बोर्ड की बैठक में मुख्यमंत्री | ने गुरु नानक देव जी के 550वें प्रकाश पर्व को ध्यान में रखते हुए कांजली वेटलैंड (Kanjali Wetland) और पवित्र काली बेई नदी को वन्यजीव संरक्षण रिजर्व घोषित करने की भी स्वीकृति दी। काली बेई नदी (Kali Bei river) श्री गुरु नानक देव जी के जीवन से जुड़ी हुई है।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *