भारत ने संभाली चाबहार बंदरगाह की संचालन कमान

Chabahar port

अफगानिस्तान एवं मध्य एशिया के लिए मालवहन की दृष्टि से रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण ईरान के दक्षिण पूर्वी तट पर स्थित चाबहार बंदरगाह के संचालन की कमान भारत ने सोमवार को संभाल ली है।

 भारत-अफगानिस्तान-ईरान का उद्देश्य इस बंदरगाह को अंतरराष्ट्रीय माल परिवहन को लोकप्रिय बनाना है। फरवरी में वहां बड़ा कार्यक्रम आयोजित होगा। यह बंदरगाह रणनीतिक रूप से भी महत्वपूर्ण है।

 तीनों देशों की चाबहार समझौते के क्रियान्वयन संबंधी समिति की सोमवार को चाबहार में पहली बैठक हुई। इसी दौरान ईरान ने संचालन की कमान भारत को सौंप दी।

 भारत की तरफ से इंडिया पोर्ट्स ग्लोबल लिमिटेड कंपनी (India ports global limited company) ने चाबहार में अपने कार्यालय की शुरुआत कर ली है।

 व्यापार मार्गों पर बनी सहमति :

  •  बैठक में बंदरगाह से पारगमन एवं परिवहन के त्रिपक्षीय समझौते के पूर्ण क्रियान्वयन को लेकर सकारात्मक एवं रचनात्मक विचार-विमर्श हुआ।
  •  साथ ही व्यापार एवं पारगमन के मार्गों पर तीनों के बीच सहमति कायम हो गई।
  •  कार्गो की आवाजाही अंतरराष्ट्रीय कार्गो परिवहन संबंधी टीआईआर संधि के प्रावधानों के अनुरूप होगी।

 लॉजिस्टिक लागत कमी

  •  भारत, अफगानिस्तान एवं ईरान इस बंदरगाह को लोकप्रिय बनाने के लिए 26 फरवरी 2019 को बड़ा आयोजन करेंगे।
  •  इसके अलावा लॉजिस्टिक की लागत कम करने एवं व्यापार मार्ग को आकर्षक बनाने के उपायों पर भी अध्ययन किया जाएगा।

 पाकिस्तान के संबंध में 

 चाबहार के संचालन से भारत पाकिस्तान को बायपास कर सकेगा। भारत अफगानिस्तान में जहाजों के द्वारा माल की आपूर्ति बढ़ा सकेगा। भारत के आग्रह पर अमेरिका ने इस बंदरगाह को ईरान पर लगे प्रतिबंधों से मुक्त कर रखा है। यह भी भारत के लिए बड़ी उपलब्धि है।

One Comment

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *