नागालैंड में Armed Forces Special Powers Acts (AFSPA) का विस्तार


AFSPA in nagaland

हाल ही में, विवादास्पद अफस्‍पा (Armed Forces Special Powers Acts (AFSPA)) के अंतर्गत पूरे नागालैंड राज्य को जून के अंत तक अगले 6 महीनों के लिए अशांत क्षेत्र घोषित किया गया है। AFSPA, सुरक्षा बलों को किसी भी स्‍थान पर कार्यवाही करने और बिना किसी पूर्व सूचना के किसी को भी गिरफ्तार करने का अधिकार प्रदान करता है।

भारत के संविधान का अनुच्छेद 355 प्रत्येक राज्य को आंतरिक अशांति से बचाने के लिए केंद्र सरकार को शक्ति प्रदान करता है।

संबंधित जानकारी

सशस्त्र बल (विशेष शक्तियां) अधिनियम (Armed Forces Special Powers Acts (AFSPA)) 

सशस्त्र बल (विशेष शक्तियां) अधिनियम (AFSPA) , भारत की संसद का अधिनियम है जो भारतीय सशस्त्र बलों को विशेष शक्तियां प्रदान करता है जिसमें प्रत्येक अधिनियम “अशांत क्षेत्रों” की शर्तें रखता है।

  • अशांत क्षेत्र (विशेष अदालतें) अधिनियम, 1976 के अनुसार एक बार ‘अशांत’ घोषित होने के बाद इस क्षेत्र को न्यूनतम 3 महीने तक यथास्थिति बनाए रखना होता है।
  • 11 सितंबर, 1958 को पारित एक ऐसा अधिनियम नागा हिल्स पर लागू किया गया था, जो उस समय असम का भाग था।
  • बाद के दशकों में यह एक के बाद एक करके भारत के उत्तर-पूर्व में अन्य 7 सिस्टर राज्‍यों (वर्तमान में यह असम, नागालैंड, मणिपुर में इंफाल कार्यपालिका परिषद क्षेत्र को छोड़कर, अरुणाचल प्रदेश के चांगलांग, लोंगडिंग और तिराप जिलें) तक फैल गया था।
  • समान प्रकार का एक अधिनियम वर्ष 1983 में पारित हुआ था, जो पंजाब और चंडीगढ़ में मान्‍य था, जिसे लागू होने के लगभग 14 वर्षों बाद वर्ष 1997 में वापस ले लिया गया था।

इतिहास

भारत छोड़ों आंदोलन को दबाने के लिए 1942 के सशस्त्र बल विशिष्‍ट शक्तियां अध्यादेश को अंग्रेजों द्वारा 15 अगस्त, 1942 को प्रवर्तित किया गया था।

इन पंक्तियों पर आधारित चार अध्यादेश-

  • बंगाल अशांत क्षेत्र (सशस्त्र बलों की विशेष शक्तियां) अध्यादेश
  • असम अशांत क्षेत्र (सशस्त्र बलों की विशेष शक्तियां) अध्यादेश
  • पूर्वी बंगाल अशांत क्षेत्र (सशस्त्र बलों की विशेष शक्‍तियां) अध्यादेश
  • संयुक्त प्रांत अशांत क्षेत्र (सशस्त्र बलों की विशेष शक्‍तियां) अध्यादेश

ये अध्‍यादेश वर्ष 1947 में देश में आंतरिक सुरक्षा की स्थिति से निपटने के लिए केंद्र सरकार द्वारा लाए गए थे, जो भारत के विभाजन के कारण से उभरे थे।

One Comment

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *