Daily Current Affairs 5 feb 2018

 भारतीय कला मेला (Indian Art Fair)

10वें भारत कला मेला (10th India Art Fair) का आयोजन 4-8 फरवरी को इसका आयोजन प्रतिवर्ष देश की राजधानी नई दिल्ली में किया जाता है। इसे पहले ‘इंडिया आर्ट समिट’ कहा जाता था। इसमें समसामयिक तथा आधुनिक भारतीय कलाओं का प्रदर्शन किया जाता है।

प्रमुख बिंदु

  • ललित कला अकादमी द्वारा पहले अंतरराष्ट्रीय कला मेला का आयोजन 4 – 18 फरवरी 2018 तक  किया जा रहा है।
  • इसका उद्देश्य क्षेत्रीय और वैश्विक कला को बढ़ावा देना है।
  • भारतीय कला मेला में 800 से अधिक कलाकार भाग ले रहे हैं। इसे अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सफल बनाने के लिये चीन, वेनेजुएला, पेरू, पुर्तगाल, श्रीलंका, पोलेंड, टयूनिशिया, मेक्सिको, बांग्लादेश, त्रिनिदाद, टोबेगो, फीजी, फ्राँस, पापुआ, न्यू गीनिया, चेकिया, यूके, स्पेन और ब्राज़ील सहित कई देश मेले में भाग ले रहे हैं।
  • इसका आयोजन वर्ष 2008 से किया जा रहा है।
  • यह राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय कलाकारों, कलादीर्घाओं और सांस्कृतिक संस्थानों के लिए एक श्रेष्ठ मंच प्रदान करता है।

विश्व कैंसर दिवस (World Cancer Day)

विश्व भर में लोगों को कैंसर के खिलाफ़ जागरूक करने के लिए प्रतिवर्ष 4 फरवरी को ‘विश्व कैंसर दिवस’ मनाया जाता है। इस कार्यक्रम का उद्देश्य विश्व भर में लोगों को कैंसर के विषय में जागरूकता बढ़ाना, आवश्यक जानकारियों का प्रसार करना तथा वैश्विक स्तर पर सरकारों और व्यक्तियों को इस विषय में कार्रवाई करने के लिये संवेदनशील बनाना है।

प्रमुख बिंदु 

  • विश्व कैंसर दिवस 2016-2018 की टैगलाइन “हम कर सकते हैं, मैं कर सकता हूँ” है।
  • कैंसर दिवस की स्थापना 4 फरवरी 2000 को पेरिस के न्यू मिलेनियम (New Millennium) में  विश्व सम्मेलन में पेरिस चार्टर द्वारा की गई थी।
  • कैंसर में शरीर के भीतर कुछ कोशिकाओं का अनियंत्रित होकर बढ़ने लगती है।
  • सही उपचार ना मिलने पर कैंसर शरीर के सामान्य ऊतकों या शरीर के अन्य हिस्सों में फैल सकता है जिसके कारण बहुत से गंभीर रोग, विकलांगता व मृत्यु भी हो सकती है।

कारण 

  • शारीरिक कैंसरकारी तत्त्व जैसे कि पराबैंगनी और आयनीकरण करने वाली विकिरण।
  • रासायनिक कैंसरकारी तत्त्व जैसे – ऐस्बेस्टस, तंबाकू, एफ्लोटॉक्सिन (दूषित आहार), और आर्सेनिक (दूषित पेयजल)।
  • जैविक कैंसरकारी तत्त्व जैसे – वायरस, बैक्टीरिया , हेपेटाइटिस बी और सी वायरस तथा मानव पेपिलोमावायरस (एचपीवी) जैसे- परजीवियों से होने वाला संक्रमण।
  • अन्य महत्त्वपूर्ण कारक वृद्धावस्था , तंबाकू और अल्कोहल का सेवन, अस्वास्थ्यकर आहार एवं शारीरिक निष्क्रियता ।

उत्तराखंड को ‘बर्ड डेस्टिनेशन’ विकसित करने की योजना

उत्तराखंड को ‘बर्ड डेस्टिनेशन’ के रूप में विकसित करने के साथ ही इसे केंद्र सरकार के स्किल इंडिया कार्यक्रम से भी जोड़ा जाएगा। इस क्रम में बर्ड वाचिंग के लिहाज से पहले से विकसित स्थलों से इतर नए स्थल चिह्नीत करने के निर्देश दिए गए हैं। उत्तराखंड में भी अमेरिका और यूरोप की तर्ज पर बर्ड वाचिंग को यहां भी रोजगार से जोड़ा जाए। इससे लोगों को पक्षी संरक्षण व पर्यावरण संरक्षण से जोडऩे में मदद मिलेगी।
 उत्तराखंड में देशभर में पाई जाने वाली 1300 प्रजातियों में से 697 उत्तराखंड में चिह्नीत हैं। फिर चाहे वह हरकी दून क्षेत्र हो या फिर गंगा-यमुना की घाटियां अथवा कार्बेट व राजाजी टाइगर रिजर्व समेत दूसरे संरक्षित क्षेत्र व वन प्रभाग, सभी परिंदों की ऐशगाह हैं। देहरादून, पवलगढ़, नैनीताल, देवलसारी, बिनसर, आसन, लैंसडौन जैसे क्षेत्रों में पक्षी अवलोकन को देश-विदेश से लोग आते हैं, लेकिन इनकी संख्या काफी कम है। इसीलिए उत्तराखंड को बर्ड डेस्टिनेशन के रूप में विकसित किया जाएगा। इससे पक्षी संरक्षण में मदद मिलने के साथ ही स्थानीय लोगों को रोजगार भी मिलेगा।

Geography of India – भारत का भौतिक विभाजन

 Note –
  • नैना देवी बर्ड कंजर्वेशन के किलबरी (नैनीताल) में कस्तूरी मृग का ब्रीडिंग सेंटर स्थापित किया जाएगा।
  • Badminton Association of India (B.I.A) की और से जारी रैंकिंग में अल्मोड़ा के प्रतुल जोशी को प्रथम स्थान ।

 

Source : The Hindu , PIB & Danik Jagran

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *