CTET Exam Solved Paper 2018 – Child Development and Pedagogy

परीक्षा (Exam) : CTET Paper I (Class 1st to 5th) 
भाग (Part) : बाल विकास और शिक्षा (Child Development and Pedagogy) 
परीक्षा आयोजक (Organized) : CBSE
कुल प्रश्न (Number of Question) : 30
Paper Set – I
परीक्षा तिथि (
Exam Date) – 09th Dec 2018


निर्देश : निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर देने के लिए सही/सबसे उपयुक्त विकल्प चुनिए।

1. आनुवंशिकता और पर्यावरण की भूमिका के बारे में निम्नलिखित में से कौन-सा कथन सत्य है? 
(1) विकास के कुछ पहलू आनुवंशिकता और कुछ अन्य पर्यावरण से अधिक प्रभावित होते हैं।
(2) सीखने और प्रदर्शन करने की एक बच्चे की क्षमता जीनों द्वारा पूरी तरह से निर्धारित की जाती है।
(3) अच्छी देखभाल और पौष्टिक आहार बच्चे के किसी भी जन्मजात विकार को दूर कर सकता है।
(4) पर्यावरण केवल बच्चे के भाषा-विकास में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

2. निम्नलिखित में से कौन-सा कथन पियाजे के सिद्धांत के अनुसार कहा नहीं जा सकता?
(1) विकास गुणात्मक चरणों में होता है।
(2) बच्चे अपनी दुनिया के बारे में ज्ञान का निर्माण और उपयोग करते हैं।
(3) निरंतर अभ्यास से अधिगम होता है।
(4) बच्चे अपने पर्यावरण पर क्रिया करते हैं।

3. निम्नलिखित में से कौन-सी पूर्व-संक्रियात्मक विचार की एक सीमा नहीं है? 
(1) ध्यान केंद्रित करने की प्रवृत्ति
(2) प्रतीकात्मक विचार का विकास
(3) अहंमन्यता
(4) अनुत्क्रमणीयता

4. ______ के अलावा, निम्नलिखित कारणों से खेल युवा बच्चों के विकास में एक महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाता है। 
(1) वे अपने शरीर पर निपुणता प्राप्त करते हैं।
(2) यह उनकी इंद्रियों को उत्तेजित करता है।
(3) यह समय बिताने का एक सुखद तरीका है।
(4) वे नए कौशल हासिल करते हैं और सीखते हैं कि उन्हें कब उपयोग किया जाए।

5. निम्नलिखित में से कौन-सा प्रश्न बच्चों को गंभीर रूप से सोचने के लिए आमंत्रित करता है?
(1) क्या आप इसका उत्तर जानते हैं?
(2) सही जवाब क्या हैं?
(3) क्या आप इसी तरह की स्थिति के बारे में सोच सकते हैं?
(4) विभिन्न तरीकों से हम इसे कैसे हल कर सकते हैं?

6. निम्नलिखित में से कौन-सा विकल्प प्रगतिशील शिक्षा का सबसे अच्छा वर्णन करता है? 
(1) कर के सीखना, परियोजना विधि, सहयोग से सीखना
(2) थिमैटिक इकाइयाँ, नियमित इकाई परीक्षण, रैंकिंग
(3) व्यक्तिगत अधिगम, क्षमता समूह बनाना, छात्रों की लेबलिंग
(4) परियोजना विधि, क्षमता समूह बनाना, रैकिंग

7. प्रगतिशील शिक्षा के बारे में निम्नलिखित में से कौन-सा कथन बताता है—शिक्षा स्वयं ही जीवन है? 
(1) स्कूल शिक्षा को यथासंभव लंबे समय तक जारी रखना चाहिए।
(2) स्कूलों की आवश्यकता नहीं है, बच्चे अपने जीवन के अनुभवों से सीख सकते हैं।
(3) स्कूलों में शिक्षा सामाजिक और प्राकृतिक दुनिया को प्रतिबिंबित करे।
(4) जीवन सच्चा शिक्षक है।

8. कोह्लबर्ग के सिद्धांत के योगदान के रूप निम्नलिखित में से किसे माना जा सकता है?
(1) उनके सिद्धांत ने संज्ञानात्मक परिपक्वता और नैतिक परिपक्वता के बीच एक सहयोग को समर्थन किया है।
(2) इस सिद्धांत में विस्तृत परीक्षण प्रक्रियाएँ हैं।
(3) यह नैतिक तर्क और कार्रवाई के बीच एक स्पष्ट संबंध स्थापित करता है।
(4) उनका विश्वास है कि बच्चे नैतिक दार्शनिक हैं।

9. निकटवर्ती विकास का क्षेत्र संदर्भित करता है
(1) उस चरण को, जब अधिकतम विकास संभव है
(2) उस विकासात्मक चरण को, जब बच्चा सीखने की पूरी ज़िम्मेदारी लेता है।
(3) एक संदर्भ को, जिसमें बच्चे सहयोग के सही स्तर के साथ कोई कार्य लगभग स्वयं कर सकते हैं।
(4) उस सीखने के बिंदु को, जब सहयोग वापस लिया जा सकता है।

10. एक उभयलिंगी व्यक्तित्व – 
(1) स्त्री लक्षणों वाले पुरुर्षों को संदर्भित करता है।
(2) में आमतौर पर माने गए मर्दाना और स्त्री गुणों का समायोजन होता है ।
(3) में दृढ़ और अहंकारी होने की आदत है।
(4) समाज में प्रचलित रूढ़िवादी लिंग भूमिकाओं का पालन करता है।

11. बच्चे ________ को छोड़कर अन्य सभी के द्वारा लिंग भूमिकाएँ ग्रहण करते हैं।
(1) मीडिया
(2) समाजीकरण
(3) संस्कृति
(4) ट्यूशन

12. मानकीकृत परीक्षणों की आलोचनाओं में से एक यह है कि – 
(1) वे मुख्य रूप से मुख्यधारा की संस्कृति का प्रतिनिधित्व करते हैं और इसलिए पक्षपाती हैं।
(2) उनकी भाषा को समझना मुश्किल है।
(3) परीक्षण बड़ी आबादी पर लागू नहीं किए जा सकते हैं।
(4) वे बच्चे की क्षमता की स्पष्ट तस्वीर नहीं देते हैं।

13. एकाधिक बुद्धिमानी का सिद्धांत कहता है कि – 
(1) बुद्धि तेजी से बढ़ाई जा सकती है।
(2) बुद्धि कई प्रकार की हो सकती है।
(3) पेपर-पेंसिल परीक्षण सहायक नहीं है।
(4) प्रभावी अध्यापन के द्वारा बुद्धि बढ़ाई जा सकती है।

14. शिक्षक सीखने के लिए मूल्यांकन और सीखने के लिए मूल्यांकन दोनों का उपयोग कर सकते हैं – 
(1) बच्चों की प्रगति और उपलब्धि स्तर को जानने में
(2) बच्चे की सीखने की जरूरतों को जानने में और तदनुसार शिक्षण रणनीति का चयन करने में
(3) आवधिक अंतरालों पर बच्चे के प्रदर्शन को आकलन करने और उसके प्रदर्शन को प्रमाणित करने में
(4) बच्चों की प्रगति की निगरानी करने और उनके सीखने के अंतराल को भरने के लिए उचित लक्ष्य निर्धारित करने में

15. निम्नलिखित में से कौन-सा सतत और व्यापक मूल्यांकन से संबंधित नहीं है?
(1) इसे भारत के शिक्षा के अधिकार अधिनियम द्वारा अनिवार्य किया गया है।
(2) यह शिक्षण-अधिगम प्रक्रिया का एक अभिन्न अंग है।
(3) यह विभिन्न शिक्षा क्षेत्रों में बच्चे की उपलब्धि पर केंद्रित है।
(4) यह बच्चों को धीमे, खराब या बुद्धिमान के रूप में चिह्नित करने में उपयोगी होता है।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *