Category: Uttarakhand

चम्पावत (Champawat)

उपनाम – चम्पावती (काली कुमाऊं) स्थापना– 15 सितम्बर, 1997 क्षेत्रफल – 1955.26 वर्ग किमी . तहसील –  5 (चम्पावत, पूर्णागिरी, पाटी, बाराकोट, , लोहाघाट) विकासखंड – 4 (चम्पावत, बाराकोट, पाटी, लोहाघाट) प्रसिद्ध मंदिर – नागनाथ मंदिर, हिंग्लादेवी, घटोत्कच मंदिर, मानेश्वर, गोलू देवता, दुर्गा, बालेश्वर, पूर्णागिरी, कान्तेश्वर, आदित्य मंदिर, लड़ीघुरा, प्रसिद्ध मेले – देवीधूरा (बग्वाल मेला),  पूर्णागिरी मेला, देवी महोत्सव, सूर्याषष्टी,  द्विपमाहोत्सव, गोरा अटठारी

चमोली (Chamoli)

उपनाम – अलकापुरी, चांदपुरगढ़ी अस्तित्व – 14 फरवरी, 1960 क्षेत्रफल – 7692 वर्ग किमी . तहसील – 8 (चमोली, जोशीमठ, गैरसैंण, घाट,  राली, पोखरी, आदिबद्री, कर्णप्रयाग) विकासखंड – 8 (जोशीमठ, दशोली, नारायणबगढ़, थराली, घाट, देवाल,  कर्णप्रयाग, गैरसैण, ) प्रसिद्ध मन्दिर – नारायण मंदिर,  बद्रीनाथ धाम (उत्तर का धाम), विष्णु मंदिर, उमादेवी (कर्णप्रयाग), नंदादेवी प्रसिद्ध मेले –  शहीद भवानी दत्त जोशी मेला, वंड विकास मेला, असेड सिमली

उधम सिंह नगर (Udham Singh Nagar)

उपनाम – गोविषाण स्थापना –  October 1995 में नैनीताल जिले से अलग करके इसकी स्थापना की गयी क्षेत्रफल – 2912 वर्ग किमी . तहसील – 8 (काशीपुर, गदरपुर, जसपुर, खटीमा, किच्छा, सितारगंज, बाजपुर, रुद्रपुर विकासखंड – 7 ( खटीमा,  काशीपुर, रुद्रपुर, सितारगंज, बाजपुर, गदरपुर, जसपुर) प्रसिध्द मन्दिर – चैती मंदिर, अटरिया मंदिर, नानकमत्ता, प्रसिध्द मेले – अटरिया मेला (काशीपुर, रुद्रपुर), शहीद उधमसिंह मेला (रुद्रपुर),

पिथौरागढ़ (Pithoragarh)

पूर्व नाम  –  सोहरा घाटी उपनाम – छोटा कश्मीर अस्तित्व – 24 फ़रवरी 1960 क्षेत्रफल – 7110 वर्ग किमी . तहसील – 10 (गणाई-गंगोली, धारचूला, गंगोलीहाट, बेरीनाग, बंगापनी, मुनस्यारी, डीडीहाट, कनालीछीना, देवलथल, पिथौरागढ़) विकासखंड – 8 (धारचूला, बेरीनाग, मुनस्यारी, गंगोलीहाट, पिथौरागढ़, मूनाकोट, डीडीहाट, कनालीछीना ) प्रसिद्ध पर्यटन स्थल –   नारायण स्वामी आश्रम, डीडीहाट, पाताल भुवनेश्वर, गंगोलीहाट, जौलजीवी, मुनस्यारी, छोटा कैलाश जल विद्धुत परियोजनायें

नैनीताल (Nainital)

उपनाम – सरोवर नगरी स्थापना – 1841 ई. में  “P. Baron” द्वारा की गयी क्षेत्रफल – 3853 वर्ग किमी . तहसील – 8 (हल्द्वानी, रामनगर, नैनीताल, कालाढूंगी बेतालघाट, धारी, कोश्याकुटौली,  लालकुँआ) विकासखंड – 8 (हल्द्वानी, धारी, रामनगर, ओखलकांडा, भीमताल, बेतालघाट, रामगढ, कोटाबाग) प्रसिद्ध मन्दिर – हनुमानगढ़ी, गर्जिया देवी, नैनादेवी मंदिर,  मुक्तेश्वर, गर्जिया देवी प्रसिद्ध  मेले – नंदा देवी,  बैशाखी पर्व ग्रामीण, हिमालय हाट पर्यटक स्थल – 

बागेश्वर (Bageshwar)

बागेश्वर उत्तराखण्ड राज्य में स्थित एक जिला है। वर्ष 1997 में अल्मोड़ा जिले का विभाजन करके बागेश्वर जिले की स्थापना की गयी। यह नगर प्रसिद्ध नदियां पूर्वी गंगा और कोसी नदी के तट पर बसा है। यहाँ की प्राकृतिक सुंदरता और लौकिक गाथाओं के कारण बागेश्वर अत्यधिक प्रसिद्ध नगर है। उपनाम –  व्याघ्रेश्वर, भारत का स्विट्ज़रलैंड ‘कौसानी’,  उत्तर का

चिपको आंदोलन – गौरा देवी

चिपको आन्दोलन एक पर्यावरण-रक्षा का आन्दोलन है। यह आन्दोलन तत्कालीन उत्तर प्रदेश (वर्तमान उत्तराखंड) के चमोली जिले में सन 1973 में प्रारम्भ हुआ। यह भारत के उत्तराखण्ड राज्य में किसानो ने गौरा देवी के नेतृत्व में वृक्षों की कटाई का विरोध करने के लिए किया था। वे राज्य के द्वारा वनों की कटाई का विरोध कर रहे थे और उन पर अपना

उत्तराखंड में स्थित राष्ट्रीय उद्यान और वन्य जीव विहार

राष्ट्रीय उद्यान ( National Park ) S.No राष्ट्रीय उद्यान ( National Park ) स्थापना वर्ष क्षेत्रफल (square km) विस्तार 1. कार्बट राष्ट्रीय उद्यान (Corbeet National Park) 1936 520.82 पौड़ी गढ़वाल-नैनीताल 2. नन्दादेवी राष्ट्रीय उद्यान ( Nanda devi National Park ) 1982 624.60 चमोली गढ़वाल 3. फूलों की घाटी  (Valley of Flowers National Park) 1982 87.50 चमोली गढ़वाल (विश्व विरासत)

मेजर सोमनाथ शर्मा – प्रथम परमवीर चक्र विजेता

जन्म :-  31 जनवरी, 1923 मृत्यु :- 3 नवम्बर 1947   मेजर सोमनाथ शर्मा का जन्म 31 जनवरी, 1923 को जम्मू में हुआ था। इनके पिता मेजर अमरनाथ शर्मा सेना में डॉक्टर थे। मेजर सोमनाथ की शुरुआती स्कूली शिक्षा शेरवुड , नैनीताल में हुई।  सोमनाथ ने अपना सैनिक जीवन 22 फरवरी 1942 को इन्हें कुमाऊँ रेजिमेण्ट की चौथी बटालियन में सेकण्ड लेफ्टिनेण्ट के पद पर नियुक्ति मिली।

उत्तराखंड के राज्यपाल व उनका संक्षिप्त विवरण

उत्तराखंड राज्य गठन 09 नवंबर 2000 से अब तक राज्य में 6 राज्यपालों ने कार्यभार संभाला है। उत्तराखंड के प्रथम राज्यपाल श्री सुरजीत सिंह बरनाला (SARDAR SURJIT SINGH BARNALA) थे। उत्तराखंड के वर्तमान राज्यपाल डा0 कृष्णकांत पॉल ( K. K. PAUL) हैं। जिन्होंने 07 जनवरी 2015 से उत्तराखंड के राज्यपाल का पद संभाला हुआ है।
error: Content is protected !!