Author: StudyIdol

बिहार में वन्य जीव-जंतु एवं संरक्षण

भारतीय वन्यजीव संस्थान द्वारा भारत में वन्य जीव-जंतु संरक्षण हेतु योजनाओं का क्रियान्वयन एवं निर्देशन किया जाता है। इसके अध्यक्ष प्रधानमंत्री होते हैं। वन्य जीवन (सुरक्षा) अधिनियम, 1972 में वन्य जीवन के संरक्षण एवं विलुप्त होती जा रही प्रजातियों के संरक्षण के लिए दिशा-निर्देश दिए गए हैं। इस अधिनियम के अंतर्गत दुर्लभ और ख़त्म होती

भारत का संवैधानिक विकास (1858 -1935 तक)

भारत शासन अधिनियम (1858)  1857 के विद्रोह के बाद भारत शासन अधिनियम (1858) को पारित किया गया जिसने ईस्ट इंडिया कंपनी को समाप्त कर गवर्नरों, क्षेत्रों और राजस्व संबंधी शक्तियाँ ब्रिटिश राजशाही को सौंप दीं। भारत का शासन सीधे महारानी विक्टोरिया के अधीन चला गया। गवर्नर जनरल का पदनाम बदलकर भारत का वायसराय करते हुए

बिहार में वन (Forest in Bihar)

बिहार राज्य का अधिकांश क्षेत्रफल मैदानी है। अत्यधिक जनसंख्या घनत्व और कृषि भूमि पर दबाव के कारण प्राकृतिक वनस्पति, पर्यावरण के अनुकूल नहीं है। बिहार में अधिकांश वर्षा  मानसूनी जलवायु के कारण होती है, अतः यहाँ वनस्पति के निर्धारण में वर्षा की मात्रा एक प्रमुख कारक है। बिहार के कुल क्षेत्रफल 94,163 वर्ग किलोमीटर में

बिहार में वन संपदा (Forest estate in Bihar)

वह उत्पाद जो हमें वनों से प्राप्त होते है वन संपदा कहलाते हैं। बिहार में वनों से प्राप्त होने प्रमुख/मुख्य एवं गौण उत्पाद निम्न हैं, जिनके एकत्रीकरण एवं विपणन का कार्य बिहार राज्य वन विकास निगम द्वारा किया जाता है। मुख्य उत्पाद  वनों से प्राप्त होने वाले मुख्य उत्पाद में केवल लकड़ियों को सम्मिलित किया

‘बाल विवाह -2019 फैक्टशीट’ रिपोर्ट यूनिसेफ द्वारा जारी

संयुक्त राष्ट्र बाल निधि (United Nations Children’s Fund – UNICEF) द्वारा जारी रिपोर्ट, “Child Mariages – 2019 Factsheet “ में कहा गया है कि, भारत में अभी भी कुछ क्षेत्रों में जैसे – बिहार, बंगाल और राजस्थान में बाल विवाह जैसी कुप्रथा व्याप्त है। यूनिसेफ की रिपोर्ट भारत के संदर्भ में यूनिसेफ (UNICEF) की रिपोर्ट के अनुसार

आयुष मंत्रालय द्वारा नए ई-औषधि पोर्टल की शुरूआत

आयुष मंत्रालय द्वारा श्री पद येसो नाइक (स्वतंत्र प्रभार राज्यमंत्री) की अध्यक्षता में 13 फरवरी 2019 को नई दिल्ली में आयुर्वेद, सिद्ध, यूनानी और होम्योपैथी औषधियों की ऑनलाइन बिक्री के लिए ई-औषधि पोर्टल की शुरूआत की गयी। ई-औषधि पोर्टल का उद्देश्य: इस पोर्टल का मुख्य उद्देश्य पारदर्शिता में वृद्धि, सूचना प्रबंधन सुविधा तथा आंकड़ों के

मिस्र के राष्ट्रपति अब्देल फतह अल-सीसी को अफ्रीकी संघ का अध्यक्ष नियुक्त किया गया

इथियोपिया (Ethiopia) में आयोजित अफ्रीकी संघ  (African Union) के शिखर सम्मेलन में मिस्र के राष्ट्रपति अब्देल फतह अल-सीसी को इस संघ का अध्यक्ष नियुक्त किया गया है। इससे पूर्व अफ्रीकी संघ (African Union) के अध्यक्ष रवांडा (Rwanda) के राष्ट्रपति पॉल कागामे थे। अफ्रीकी संघ (African Union) की  स्थापना वर्ष 2002 में की गयी थी, वर्ष

ग्लोबल वार्मिंग से समुद्र के रंग में परिवर्तन – MIT & WEF रिपोर्ट

अमेरिका की Massachusetts Institute of Technology (MIT)  द्वारा किए गए अध्ययन तथा World Economic Forum (WEF) द्वारा प्रकाशित रिपोर्ट के अनुसार ग्लोबल वार्मिंग (Global warming,) के कारण विश्व में समुद्र के पानी के रंग में परिवर्तन हो रहा है। इस रिपोर्ट के अनुसार, ग्लोबल वार्मिंग के कारण 21वीं सदी के अंत तक दुनिया के 50% से

ईरान के साथ व्यापार के लिए यूरोपीय देशों द्वारा नए भुगतान चैनल (INSTEX) की घोषणा

हाल ही में यूरोपीय देशों (जर्मनी, फ्रांस और इंग्लैंड) ने ईरान के साथ एक अलग भुगतान चैनल (Payment channel) बनाने की घोषणा की है। यह भुगतान चैनल (Payment channel), INSTEX के नाम से बना है, जिसका उद्देश्य अमेरिकी प्रतिबंधों को दरकिनार कर, ईरान के साथ व्यापार जारी रखना है। यूरोपीय देशों का कहना है कि

जलालुद्दीन मोहम्मद अकबर (1556-1605 ई.)

जन्म – 15 अक्टूबर 1542 ई. (अमरकोट राणा वीरसाल के महल में) माता-पिता – हमीदा बानो बेगम, हुमायूँ मूल नाम – जलालुद्दीन मोहम्मद अकबर राज्याभिषेक – 14 फरवरी 1556 ई. कलानौर (पंजाब) अकबर का राज्याभिषेक 14 फरवरी 1556 ई. कलानौर (पंजाब) नामक स्थान पर मात्रा 14 वर्ष की अल्पायु में हुआ। अल्पायु के कारण अकबर
error: Content is protected !!