भारत को एक और बड़ी कामयाबी आस्ट्रेलिया ग्रुप हुआ शामिल

australia group, mtcr, nuclear supplier group

चर्चा 

एमटीसीआर (M.T.C.R) और वासेनार समूह (Was) में सदस्यता हासिल करने के बाद भारत 19 jan 2018 को भारत औपचारिक रूप से ऑस्ट्रेलिया समूह का भी सदस्य बन गया है। भारत ऑस्ट्रेलिया समूह का सदस्य बनने वाला 43वाँ सदस्य है।

ऑस्ट्रेलिया समूह [Australia Group (AG)]

  • ऑस्ट्रेलिया ग्रुप उन देशों का सहकारी समूह है जो सामग्रियों, उपकरणों और प्रौद्योगिकियों के निर्यात को नियंत्रित करते हैं ताकि, जैविक और रासायनिक हथियारों (Biological and Chemical Weapons) के विकास या अधिग्रहण में इनका प्रयोग ना किया जा सके।
  • ऑस्ट्रेलिया समूह का उद्देश्य जैविक और रासायनिक हथियारों (Biological and Chemical Weapons) के आयात-निर्यात की रोकथाम के लिए नियम निर्धारित करना है। इसके अलावा ऑस्ट्रेलिया समूह इन हथियारों के निर्यात पर नियंत्रण रखने के विशेष प्रकार के 54 यौगिकों के प्रसार पर नियंत्रण रखता है।
  •  1984 के युद्ध  में जब इराक ने ईरान रासायनिक हथियारों का प्रयोग किया, तब जैविक और रासायनिक हथियारों (Biological and Chemical Weapons)  के आयात-निर्यात और प्रयोग पर नियंत्रण स्थापित करने के लिये ऑस्ट्रेलिया के नेतृत्व में 1985 में ऑस्ट्रेलिया समूह का गठन किया गया।
  • ऑस्ट्रलिया ने यह समूह बनाने के लिये पहल की इसी कारण ऑस्ट्रेलिया ही इस संगठन के सचिवालय का प्रबंधन देखता है।

अंतर्राष्ट्रीय निर्यात नियंत्रण व्यवस्थाओं से जुड़ने के लाभ

  • परमाणु अप्रसार क्षेत्र में भारत की वैश्विक साख में वृद्धि के साथ-साथ महत्त्वपूर्ण प्रौद्योगिकियों को हासिल करने में भी सहायता
    मिलेगी।
  • ऑस्ट्रेलिया समूह का सदस्य बनने के साथ ही भारत 48 सदस्यों वाले परमाणु आपूर्तिकर्त्ता समूह (Nuclear Supplier Group – NSG) के लिये भारत की दावेदारी मज़बूत होगी।
  • परमाणु अप्रसार संधि पर हस्ताक्षर नहीं करने के बावजूद भारत अप्रसार के क्षेत्र में अपनी पहचान बना पाएगा और अप्रसार के प्रति भारत की प्रतिबद्धता को वैश्विक पहचान मिलेगी।
  • भारत दोहरे उपयोग वाली वस्तुओं और तकनीकों को हासिल कर पाएगा।
  • Australia Group , Missile Technology Control Regime और Wassenaar Arrangement का चीन सदस्य नहीं है। इस प्रकार यह भारत की रणनीतिक विजय है।
Read More :   ग्लोबल मैन्युफैक्चरिंग इंडेक्स में भारत को मिली 30वीं रैंक, जापान शीर्ष पर

NOTE-  इससे पूर्व भारत 2016 में मिसाइल प्रौद्योगिकी नियंत्रण व्यवस्था (Missile Technology Control Regime-MTCR) में शामिल हुआ जबकि वासेनार समूह (Wassenaar Arrangement-WA) में पिछले साल शामिल हुआ था।

 

 

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *