अरावली-विंध्यांचल-सतपुड़ा-राजमहल पर्वत श्रेणी

aravali range , satpura vindhyaan range

अरावली पर्वत श्रेणी (Aravali Range)

भारत में अरावली पहाड़ियाँ राजस्थान  के पश्चिमी भाग  में स्थित  है, जिनका विस्तार भारत के चार राज्यों – राजस्थान, हरियाणा, गुजरात और दिल्ली में  हैं। यह संसार की सबसे प्राचीन पर्वत श्रृंखला है जो राजस्थान को उत्तर से दक्षिण दो भागों में बांटती है। इस पर्वत श्रंखला का 80% भाग राजस्थान में है और ये पर्वत श्रंखला राजस्थान को उत्तर से दक्षिण की ओर दो भागों में बांट देती है।

मुख्य बिंदु

  • अरावली पहाड़ियों की औसत ऊँचाई 930 मीटर है।
  • अरावली श्रेणी का की सबसे ऊँची चोटी सिरोही जिले में गुरुशिखर 1722 meter है, जो माउंट आबू में स्थित है।
  • अरावली श्रेणी का सर्वोच्च पर्वत शिखर सिरोही जिले में गुरुशिखर (1722 /1727 मी.) है, जो माउंट आबू में है।
  • अरावली पर्वत श्रेणी कई तरह के खनिज-तत्वों के लिए महत्पूर्ण है जिनमे मुख्य रूप से सीसा, तांबा और जस्ता यहां मिलने वाले प्रमुख खनिज हैं।

विंध्यांचल शृंखला (Vindhyachal Range)

विंध्याचल पर्वत शृंखला भारत के पश्चिम-मध्य में स्थित प्राचीन गोलाकार पर्वतों की शृंखला है जो भारत उपखंड को उत्तरी भारत व दक्षिणी भारत में बांटती है। इस शृंखला का विस्तार गुजरात , राजस्थान व मध्य प्रदेश की सीमाओं के नजदीक है। यह शृंखला भारत के मध्य से होते हुए पूर्व व उत्तर से होते हुए मिर्ज़ापुर में गंगा नदी तक जाती है।]

मुख्य बिंदु

  • इसकी ढलान उत्तरप्रदेश की ओर नर्मदा और सोन नदी के बीच है |
  • यह मध्यप्रदेश और उत्तर प्रदेश के बुंदेलखंड क्षेत्र में स्थित है |
  • यह मालवा पठार के दक्षिण में स्थित है |
  • सदभावना शिखर (2467 फीट) विध्यांचल पर्वत श्रृंखला की सबसे ऊँची चोटी है।
  • यह उत्तरी भारत को दक्षिण भारत से अलग करती है |
  • इसकी औसत ऊँचाई 700-1200 मी. है |
  • इसको ब्लाक माउंटेन (Block Mountain) भी कहते हैं |
Read More :   ब्रह्मपुत्र नदी तंत्र

सतपुड़ा पर्वत श्रंखला (Satpura Range)

सतपुड़ा पर्वत श्रंखला भारत के मध्य भाग में स्थित एक पर्वतमाला है ।  जिसका विस्तार नर्मदा एवं ताप्ती की दरार घाटियों के बीच राजपीपला पहाड़ी, महादेव पहाड़ी एवं मैकाल श्रेणी के रूप में पश्चिम से पूर्व की ओर विस्तृत है। पूर्व में इसका विस्तार छोटा नागपुर पठार तक है। यह पर्वत श्रेणी एक ब्लाक पर्वत है, जो मुख्यत: ग्रेनाइट एवं बेसाल्ट चट्टानों से निर्मित है। जो महादेव पर्वत पर स्थित है।

मुख्य बिंदु

  •  इस पर्वत श्रेणी की सर्वोच्च चोटी धूपगढ़ 1350 मीटर है,
  • यह विन्ध्याचल के दक्षिण में और समान्तर स्थित है |
  •  पंचमढ़ी एक प्रमुख दर्शनीय स्थल है ।|
  • इसको सनसेट पॉइंट कहते हैं |

राजमहल पहाड़ी (Rajmahal Hills)

राजमहल पहाड़ियाँ झारखण्ड में छोटा नागपुर पठार के उत्तर-पूर्वी भाग में स्थित हैं। ये पहाड़ियाँ बेसाल्ट निर्मित हैं। इनका निर्माण जुरासिक युग में होने वाले ज्वालामुखी उद्गार के फलस्वरूप हुआ है।

मुख्य बिंदु

  • यह पहाड़ियाँ मुख्य रूप से लावा से निर्मित हुई हैं।
  • इनके द्वारा 300 से 450 मीटर ऊँचे भू-भाग का निर्माण होता है।
  • इसकी सबसे ऊंची चोटी पारसनाथ, झारखण्ड है |
  • राजमहल पहाड़ियों में ब्लास्ट चट्टानों की अधिकता है।
  • पारसनाथ एक प्रसिद्ध जैन मंदिर है |

कुछ अन्य मुख्य पहाड़ियां 

  • अजंता और सतमाला  महाराष्ट्र में स्थित हैं |
  • महादेव हिल  मध्यप्रदेश में स्थित है |
  • हरिश्चंद्र हिल महाराष्ट्र में स्थित है |
  • बालाघाट हिल महाराष्ट्र, आँध्रप्रदेश और कर्नाटक में स्थित है |
  • गारो, खासी, जयंतिया, नागा पर्वत श्रेणी पूर्वी भारत में स्थित है |
5 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Don`t copy text!