Daily Current Affairs 9 feb 2018

“द ग्रेट इंडिया ब्लॉग ट्रेन” (The Great Blog Train of India)

पर्यटन मंत्रालय ब्रांडिंग और विपणन को एक प्रभावी उपकरण के रूप में सोशल मीडिया के महत्व को ध्यान में रखते हुए सोशल मीडिया पर प्रभावकारी अभियान “द ग्रेट इंडिया ब्लॉग ट्रेन” का आयोजन कर रहा है। जिसमें दुनिया भर के यात्रा ब्लॉगर्स को शामिल किया गया है। इन ब्लॉगरों को विभिन्न राज्यों में चलने वाली लक्ज़री ट्रेनों पर देश के विभिन्न स्थलों की यात्रा के लिये आमंत्रित भी किया गया है।

उद्देश्य

  • इस अभियान का उद्देश्य घरेलू और विदेशी बाज़ारों में भारत की लक्ज़री ट्रेनों को एक अनूठे पर्यटन उत्पाद के रूप में प्रस्तुत करना है।
  • इस अभियान के अंतर्गत लक्ज़री ट्रेनों के साथ-साथ जिन स्थानों का ये ब्ल़ॉगर दौरा करेंगे, उन्हें भी ये ब्लॉग, वीडियो और फोटो के माध्यम से अपने अनुभव साझा कर प्रचारित ही करेंगे।
  • भारत सहित 23 देशों के 60 ब्लॉगर 15-15 के ग्रुप (दल) में चार लग्जरी ट्रेनों जैसे पैलेस ऑन व्हील्स, महाराजा एक्सप्रेस, दक्कन ओडिशी और गोल्डन चैरिअट पर यात्रा का आनन्द लेंगे।

शरुआत

  • 15 ब्लॉगरों का प्रथम दल आज पैलेस ऑन व्हील्स पर यात्रा के लिए सफदरजंग रेलवे स्टेशन, नई दिल्ली से रवाना हुआ।
  • दूसरा दल महाराजा एक्सप्रेस से दिल्ली से 10 फरवरी 2018 को रवाना होगा ।
  • तीसरा दल 10 फरवरी 2018 को ही मुंबई के छत्रपति शिवाजी टर्मिनल से दक्कन ओडिशी में यात्रा के लिए निकलेगा।
  • चौथा एवं ब्लॉगरों का अंतिम दल 19 फरवरी 2018 को बेंगलूरू से गोल्डन चैरिअट में एक सप्ताह की यात्रा पर निकलेगा।
  • रेलवे बोर्ड, राजस्थान, महाराष्ट्र और कर्नाटक की राज्य सरकारें और इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कॉरपोरेशन लिमिटेड (आईआरसीटीसी) इसे घरेलू और विदेशी बाजारों में विलासिता की श्रेणी में लगातार सक्रिय रूप से बढ़ावा दे रहे हैं तथा ट्रेनों पर ब्लॉगरों की मेजबानी करके सक्रिय रूप से इस अभियान का समर्थन भी कर रहे हैं।

प्रधानमंत्री अनुसंधान अध्येता योजना (Prime Minister Research Fellows –PMRF)

 

 

मानव संसाधन विकास मंत्रालय द्वारा 2018-19 से 7 वर्ष की अविध के लिए 1650 करोड़ रूपये की कुल लागत की ‘’प्रधानमंत्री अनुसंधान अध्‍येता (PMRF)’’ योजना को स्‍वीकृति दे दी है। इस योजना के तहत देश में नई शोधों को बढ़ावा मिलेगा।

उद्देश्य

  • PMRF योजना विज्ञान और प्रौदयोगिकी (Science & Technology) के अग्रणी क्षेत्रों में स्‍वदेशी रूप से शोध  करने में सहायक होगी।
  • PMRF योजना से हमारी राष्‍ट्रीय प्राथमिकता को हल करेगा और दूसरी ओर देश  की प्रमुख शैक्षिक संस्‍थाओं में गुणवत्‍तापरक संकाय की कमी दूर करेगा।।

मुख्य विशेषताएँ

  • इस योजना के अंतर्गत IISC/ IIT /NIT / IISER/ IIIT से विज्ञान एंव प्रौदयोगिकी विषयों में B.Tech अथवा समेकित M.Tech अथवा MSC पास करने वाले अथवा अंतिम वर्ष के सर्वोत्‍तम छात्रों को IIT/ IISC में पीएचडी कार्यक्रम में सीधा प्रवेश दिया जाएगा।
  • ऐसे छात्र जो पात्रता को पूरा करते हैं उन्हें PMRF दिशा निर्देशों के द्वारा चयनित किया जायेगा, इन शोधकर्ताओं पहले 2 वर्षों के लिए 70,000 रूपये प्रति माह, तीसरे वर्ष के लिए 75,000 रूपये प्रति माह तथा चौथे और 5वें  वर्ष में 80,000 रूपये प्रति माह  की फेलोशिप प्रदान की जाएगी।
  • प्रत्‍येक शोधकर्ता को अंतरराष्‍ट्रीय सम्‍मेलनों और सेमिनारों में शोध-पत्र प्रस्‍तुत करने के लिये उनकी विदेश यात्रा से संबंधित खर्च को पूरा करने के लिये 5 वर्ष की अवधि के लिये 2 लाख रुपए का शोध अनुदान दिया जाएगा।
  • इस योजना के अंतर्गत 2018-19 की अविध से प्रारंभ 3 वर्ष में अधिकतम 3000 फेलो का चयन  किया जाएगा।

वैश्विक सार्वजनिक खरीद सम्मेलन (Global public procurement conference)

 

हल ही में वित्त राज्य मंत्री श्री पी. राधाकृष्णन नई दिल्ली में आज तीसरे वैश्विक सार्वजनिक खरीद सम्मेलन का उद्घाटन करने के बाद अपना भाषण दे रहे थे। श्री राधाकृष्णन ने बताया कि सार्वजनिक खरीद का जीडीपी में करीब 20% योगदान है। इस दो दिवसीय सम्मेलन की थीम ‘सार्वजनिक खरीद की मौजूदा बदलाव प्रक्रिया में नई चुनौतियों का सामना’ है। इसका मुख्य उद्देश्य सार्वजनिक खरीद के स्वरूप एवं माहौल में बदलाव लाना है

आयोजनकर्ता

  • इस सम्मेलन का आयोजन अखिल भारतीय प्रबंधन संघ (AIMA), विश्व बैंक (World Bank) और भारत सरकार द्वारा किया गया।
  • इस सम्मेलन में भारत सरकार के वरिष्ठ बाह्य संसाधन अधिकारी, निजी एवं सार्वजनिक कंपनियों के अधिकारी और एशिया, अफ्रीका, यूरोप एवं अमेरिका से आए प्रतिनिधिमंडल द्वारा भाग लिया जा रहा है।

मुख्य विशेषताएँ

  • इस सम्मेलन का उद्देश्य परस्पर विभिन्न राष्ट्रों और इससे जुड़े क्षेत्रों में आपसी सहयोग बढ़ाने में मदद करना है।
  • इससे खरीद प्रबंधन में ज़रूरी बदलावों को लेकर भागीदारों को और जागरुक करने में मदद मिलेगी।
  • वैश्विक सार्वजनिक खरीदारी सम्मेलन में दुनिया भर के 200 से ज्यादा खरीद अधिकारी भाग ले रहे हैं।
  • इससे भागीदारों को डिजिटल अर्थव्यवस्था और संसाधन प्रबंधन के विकेंद्रीकरण के अनुरूप कार्य करने के दृष्टिकोण, कौशल और जरूरी साधनों को लेकर मार्गदर्शन उपलब्ध कराने में भी मदद मिलेगी।

Future aspect of NASA Space Agency

falcon heavy

Source :

http://pib.nic.in/newsite/PrintHindiRelease.aspx?relid=70600

http://pib.nic.in/newsite/PrintHindiRelease.aspx?relid=70595

http://pib.nic.in/newsite/PrintHindiRelease.aspx?relid=70616

Danik Jagran

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Don`t copy text!