Daily Current Affairs 07 august 2018

प्रोजेक्ट मौसम

भारतीय संस्कृति मंत्रालय द्वारा प्रोजेक्ट मौसम परियोजना चलाई जा रही है जिसे दो सहयोगी निकायों राष्ट्रीय संग्राहलय (National Museum)  एवं भारतीय पुरातत्त्व सर्वेक्षण (Archaeological Survey of India – ASI) की सहायता से नोडल समन्वय एजेंसी के रूप में इंदिरा गाँधी राष्ट्रीय कला केंद्र (Indira Gandhi National Centre for the Arts – IGNCA), नई दिल्ली द्वारा कार्यान्वित किया जा रहा है|

  • प्रोजेक्ट मौसम का उद्देश्य उद्देश्य बहुआयामी हिन्द महासागर के संबंध में इस क्षेत्र के सांस्कृतिक, वाणिज्यिक एवं धार्मिक अंतर्संबंधों पर  पुरातात्विक एवं ऐतिहासिक स्तर का अनुसन्धान करना है ताकि इस क्षेत्र की विविधता को  उजागर किया जा सकें|
  • फरवरी 2015 में प्रोजेक्ट मौसम का प्रथम अंतरराष्‍ट्रीय सम्‍मेलन राष्‍ट्रीय और अंतरराष्‍ट्रीय अनुसंधान साझेदारों और सहयोगियों के साथ आयोजित किया गया था।
  • इसका परियोजना का उद्देश्य मानसून पद्धतियों, सांस्‍कृतिक मार्गों और समुद्री परिदृश्‍यों पर ध्‍यान केंद्रित करते हुए, ‘प्रोजेक्ट मौसम’ परियोजना के सम्बन्ध उन मुख्‍य प्रक्रियाओं और परिदृश्‍य की जांच करना है जो हिन्‍द महासागर तट के विभिन्न भागों के साथ उन भागों को भी जोड़ती है जो तटीय क्षेत्र अपने समुद्री तटक्षेत्र से जुड़े हैं।
  • भारत द्वारा शुरू की गयी इस परियोजना में  चीन, संयुक्‍त अरब अमीरात, कतर, इरान, म्‍यांमार और वियतनाम सहित अनेक देशों ने भी  इस बहुआयामी सांस्‍कृतिक परियोजना में गहरी रुचि दिखाई|
  • प्रोजेक्ट मौसम परियोजना का लक्ष्य यह समझना है कि मानसूनी  हवाओं के ज्ञान और चालन ने हिन्द महासागर की संस्कृति के  पारस्परिक रूप को कैसे प्रभावित किया है, तथा  समुद्री मार्गों पर सहभागी ज्ञान प्रणालियों, परम्पराओं, प्रौद्योगिकियों तथा विचारों पर इसका क्या प्रभाव पड़ा है|
Read More :   Daily Current Affairs 15 feb 2018 - PIB & News Analysis

प्रोजेक्ट मौसम का प्रयास दो स्तरों पर स्वयं को अवस्थित करना है –

  1. वृहद् स्तर – इस परियोजना का उद्देश्य  हिन्द महासागर के भूभाग के देशों के बीच संचार को जोड़ना और फिर से स्थापित करना है जिससे इन देशों के मध्य सांस्कृतिक मूल्यों और विचारों को समझने में  बेहतर समझ विकसित हो सकें|
  2. लघु  स्तर – इस परियोजना का उद्देश्य के क्षेत्रीय समुद्री परिवेश में राष्ट्रीय संवर्द्धन को प्रोत्साहित करना है|

मैत्री 2018 (भारत और थाईलैंड के बीच संयुक्त सैन्य अभ्यास)

भारतीय सेना व रॉयल थाईलैंड आर्मी के मध्य संयुक्त सैन्य अभ्यास 6 से 19 अगस्त, 2018 के दौरान आयोजित किया जा रहा है । मैत्री 2018 आतंकवाद का सामना करने के लिये यह युद्धाभ्यास काफी महत्वपूर्ण है।

  • मैत्री 2018 प्लाटून स्तरीय युद्ध अभ्यास है। इसके उद्घाटन समारोह में दोनों सेनाओं के हथियारों की प्रदर्शनी की गयी, तथा इस युद्धाभ्यास का उद्देश्य आंतकवाद विरोधी ऑपरेशन में तकनीकी व रणनीतिक कुशलता में वृद्धि करना है।
  • इस अभ्यास के दौरान दोनों सेनाएँ संयुक्त प्रशिक्षण प्राप्त करेंगी, तथा इस ऑपरेशन का क्रियान्वयन योजनाबद्ध रूप से करेंगी।
  • इस सैन्य अभ्यास के दौरान दोनों पक्ष के रक्षा विशेषज्ञों द्वारा विभिन्न मुद्दों पर विचार विमर्श भी किया जाएगा।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *