भारत के प्रमुख दर्रे

कराकोरम दर्रा 

यह जम्म-ू कश्मीर राज्य को लद्दाख क्षेत्र में कराकोरम श्रेणियों में स्थित है। इसकी समुद्र तल से ऊँचाई 5,654 मीटर है।

जोजिला दर्रा 

यह जम्म-ू कश्मीर राज्य को जासकर श्रेणी में स्थित है। श्रीनगर से लेह जाने का मार्ग इसी दर्रे से गुजरता है। इसकी ऊँचाई 3529 मीटर है।

पीर पंजाल दर्रा 

यह जम्म-ू कश्मीर राज्य को दक्षिण-पश्चिम में स्थित है। यह पीर पंजाल को मध्य 3494 मीटर ऊँचा है।

बानिहाल दर्रा 

यह जम्म-ू कश्मीर राज्य को दक्षिण-पश्चिम में पीर पंजाल श्रेणियों में स्थित है। इसकी ऊंचाई 2882 मीटर है। जम्मू- श्रीनगर का मार्ग इसी दर्रे से गजु रता है।

श्पिकीला दर्रा 

यह दर्रा हिमाचल प्रदेश राज्य को जास्कर श्रेणी में स्थित है। इस दर्रे से हाके र शिमला से तिब्बत जाने का मार्ग है।

रोहतांग दर्रा 

हिमाचल प्रदेश में पीरपंजाल श्रेणियों में यह दर्रा स्थित है। इसकी ऊँचाई 4631 मीटर है।

बाडा़लाचा दर्रा 

यह हिमाचल प्रदेश में जासकर श्रेणी में स्थित है। इसकी ऊँचाई 4512 मीटर है। मंडी से लहे जाने वाला मार्ग इसी दर्रे से होकर गुजरता है।

माना दर्रा 

यह उत्तराखण्ड के कुमाऊं श्रेणी में स्थित है। इस दर्रे से होकर भारतीय तीर्थयात्री मानसरोवर झील और कैलाश पर्वत के दर्शन हेतु जाते है।

नीति दर्रा 

यह दर्रा भी उत्तराखण्ड के कुमाऊं श्रेणी में स्थित है। यह 5389 मीटर ऊँचा है। यहाँ से भी मानसरोवर झील व कैलाश घाटी जाने का रास्ता खुलता है।

नाथुला दर्रा 

यह सिक्किम राज्य में  स्थित है। भारत एव  चीन को बीच युद्ध में यह अपनने सामरिक महत्व के कारण अधिक चर्चा में रहा। यहाँ से दार्जिलिंग और चुम्बी  घाटी होकर तिब्बत जाने का मार्ग है।

Read More :   महासागरीय जल की लवणता

जेलेपला दर्रा 

यह दर्रा भी सिक्किम राज्य में है। भूटान जाने वाला मार्ग इसी दर्र से होकर गुजरता हैं

बोमडिला दर्रा 

यह अरुणाचल प्रदेश को उत्तर-पश्चिमी भाग में स्थित है। बोमडिला से तवागं हाके र तिब्बत जाने का मार्ग है।

याग याप दर्रा

अरुणाचल प्रदेश को उत्तर-पूर्व में स्थित इस दर्रे के पास से ही ब्रह्मपुत्र नदी गुजरती है। यहाँ से चीन के लिए भी मार्ग खुलता है।

दिफू दर्रा 

अरुणाचल प्रदेश  को पर्वू में भारत-म्यांमार सीमा पर यह दर्रा स्थित है।

थाल घाट 

यह महाराष्ट्र राज्य के पश्चिमी घाट की श्रेणियों में स्थित है। इसकी ऊँचाई 583 मीटर है। यहाँ से होकर दिल्ली-मुंबई के प्रमुख रेल व सड़क मार्ग गुजरते हैं।

भोर घाट 

यह दर्रा भी महाराष्ट्र राज्य  को पश्चिमी घाट श्रेणियों में स्थित है। पुणे-बेलगाँव रेलमार्ग और सड़क मार्ग इसी दर्रे से गुजरते हैं।

पाल घाट 

यह केरल राज्य को मध्य पूर्व में नीलगिरि की पहाड़ियों में स्थित है। इसकी ऊँचाई 305 मीटर है।

कालीकट

त्रिचूर से कोयंबटूर-इंदौर के रेल व सड़क मार्ग इसी दर्रे से होकर गुजरते हैं।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Don`t copy text!